Logo text

होम » संस्थान » अहमदाबाद के बारे में » भोजन

भोजन

गुजरात राज्य परिष्कृत, हलके, शाकाहारी भोजन के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ के स्थानीय व्यंजन मीठेपन व नमकीन के मिश्रण से बनते है जो कि अन्य किसी भी भारतीय व्यंजनों के विपरीत है। गुजराती व्यंजनों की एक अन्य उल्लेखनीय विशेषता यह है कि ये लगभग अचूक रूप से शाकाहारी होते हैं।
हालाँकि अहमदाबाद पर वर्षों से कई विदेशी प्रभाव घुलेमिले दिखाई देते हैं, फिर भी भोजन में वही मूल स्वाद बना हुआ है। यहाँ के लोग कुरकुरे, मसालेदार, तले हुए मजेदार व्यंजन (स्थानीय रूप से फरसाण नाम से जाने जाते है) के बहुत शौकीन है। ये आमतौर पर घर पर तैयार किये जाते हैं, लेकिन सड़क के स्टालों पर भी खरीदे जा सकते हैं। ये व्यंजन पारंपरिक भोजन का एक अभिन्न अंग है और इन्हें शुरुआत के रूप में भी परोसा जाता है।

भोजन एक विस्तृत विषय। ये पारंपरिक रूप से गेहूँ की रोटी और चावल की विविधता के साथ चांदी की थाली में परोसे जाते हैं। शादियों में प्रसिद्ध गुजराती थाली में फरसाण, मिठाइयाँ और तरह तरह की खट्टी-मीठी चटनी और अचार आदि परोसे जाते हैं।
भौगोलिक रूप से गुजरात के जलवायु को चार क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है। यहाँ खाने की आदतों और तैयारी के तरीके में थोड़ा बदलाव दिखाई देता है। लोकप्रिय खाद्य वस्तुओं में एक
स्वादिष्ट सब्जी ऊँधियूँ और पोंक को एक अति मजेदार खाना माना जाता है।
फरसाण में पराँठे, खमण, ढोकला और खांडवी आदि विभिन्न किस्मों में से एक हैं। काठियावाड़ी ढेबरा, जो गेहूँ के आटे में मेथी के साथ हरी मिर्च, नमक, चीनी और दही और एक चुटकी नमक व शक्कर के मिश्रण से बनता है वह भी फरसाण में शामिल है। यह छूंदो (एक तीखा व मीठा बारीक कटे आम का अचार) के साथ और मेथिया मसाला जो कि एक शुष्क पाउडर है जिसमें मेथी बीज, मिर्च पाउडर और नमक का मिश्रण होता है, के साथ खाया जाता है। यह मसाला बड़ी उदारतापूर्वक कच्ची सब्जियों और सलाद पर छिड़का जाता है जो खाद्य को विशेष रूप से चटपटा स्वाद देता है। फाफडा एक अन्य लोकप्रिय मजेदार स्वाद मिश्रित काठियावाड़ी आटा पूरी है।

इसके अलावा अपने प्रामाणिक गुजराती व्यंजनों से अहमदाबाद भोजन प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग जैसा है। पिज्जा हट के पिज्जा से लेकर भगवती की जलेबी तक भारतीय और अंतरराष्ट्रीय व्यंजनों की भरमार अहमदाबाद प्रस्तुत करता है।

हालाँकि ज़्यादातर खाद्यस्थलों पर शाकाहारियों की एक मजबूत परंपरा के रूप में शहर के जैन और हिंदू समुदायों द्वारा केवल शाकाहारी भोजन परोसा जाता है, फिर भी आई आई एम-ए के पास चावलाज और अपर क्रस्ट जैसे कुछ माँसाहारी आउटलेट्स भी यहाँ उपलब्ध हैं।